Green Tea Benifit in Hindi | ग्रीन टी के फायदे

जब बात हो फिटनेस और स्वास्थ्य की, तो ग्रीन-टी का नाम लगभग हर किसी की जुबान पर आता ही है ! पूरी दुनिया में लोग ग्रीन-टी को अपना रहे है, क्योंकि इससे होने वाले फायदे जबरदस्त हैं ! ग्रीन टी न सिर्फ शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने में सक्षम है, बल्कि कुछ बीमारियों से लड़ने में मदद कर सकती है ! इन तमाम खूबियों के बावजूद हमें उसका दूसरा पहलू समजना जरूर होगा ! इस लेख के जरिए हम ग्रीन-टी क्या है, ग्रीन-टी के फायदे और ग्रीन-टी पिने का सही तरीका और पीने के सही समय के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं ! तो चलिए जानते है Green Tea Benifit in Hindi

Green Tea Benifit in Hindi

संक्षिप्त सूचि

  • ग्रीन टि क्या है ? – What is Green Tea ?
  • ग्रीन-टी के पौष्टिक तत्व – Nutritional Value of Green Tea in Hindi
  • ग्रीन टी के फायदे – Green Tea Benifit in Hindi
  • ग्रीन टी के नुकशान – Disadvantage of Green Tea
  • ग्रीन-टी के प्रकार – Types of Green Tea in Hindi
  • ग्रीन-टी बनाने की विधि – How to Prepare Green Tea in Hindi
  • ग्रीन-टी पीने का सही समय – When to Drink Green Tea in Hindi

ग्रीन टि क्या है ? – What is Green Tea ?

सबसे पहले हम ग्रीन-टी क्या है उसके बारे में जान लेते है ! ग्रीन टी कैमेलिया साइनेन्सिस पौधे से बनाया जाता है ! इस पौधे की पत्तियों का उपयोग न सिर्फ ग्रीन टी बनाने में बल्कि अन्य प्रकार की चाय जैसे – ब्लैक टी बनाने में भी किया जाता है ! लेकिन स्वास्थ्य पर सबसे ज्यादा फायदा ग्रीन टी का देखा गया है ! अगर बात करें ग्रीन टी और ब्लैक टी की, तो भले ही ये एक ही पौधे से मिलते हों, लेकिन, दोनों को बनाने का तरीका अलग है !

ग्रीन टी का उत्पादन करने के लिए ताजे पत्तों को तोड़ने के बाद तुरंत भाप दी जाती है, ताकि ग्रीन टी का अच्छे से निर्माण हो पाए ! यह प्रक्रिया स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले प्राकृतिक पॉलीफेनोल्स को संरक्षित रखती हैं ! वहीं, अगर बात करें पोषक तत्वों की, तो ये ग्रीन टी और ब्लैक टी में लगभग समान होते हैं, लेकिन ग्रीन टी में ब्लैक टी की तुलना में पॉलीफेनोल्स की मात्रा ज्यादा होती है ! यही पॉलीफेनोल्स जो एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, वो स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी हो सकते हैं !

green tea plnt
Green Tea Plant

ग्रीन-टी के पौष्टिक तत्व – Nutritional Value of Green Tea in Hindi

ग्रीन-टी पौष्टिक तत्वों का खजाना है ! इसमें कई ऐसे पौष्टिक तत्व हैं, जिनके बारे में आपको शायद ही पता ही नहीं होगा ! बिना चीनी के ग्रीन-टी में बिल्कुल कैलोरी नहीं होती है ! ग्रीन-टी में फ्लेवेनॉल और कैटेकिन मौजूद होता है, जो एक तरह का पोषक तत्व होता है, इसके कई फायदे हैं ! अन्य महत्वपूर्ण तत्व जो ग्रीन-टी में शामिल हैं, वो कुछ इस प्रकार हैं ! (Green Tea Benifit in Hindi)

  • प्रोटीन
  • कार्बोहाइड्रेट
  • एमिनो एसिड व एंजाइम
  • मैग्नीशियम, कैल्शियम, लौह, क्रोमियम, तांबा व जिंक
  • विटामिन-बी 6
  • विटामिन-सी
  • थियनाइन
  • एमिनो एसिड

Green Tea Benifit in Hindi – ग्रीन टी के फायदे

1. वजन कम करने के लिए ग्रीन-टी फायदेमंद है – Green tea for weight loss in hindi

ग्रीन-टी वजन कम करने में मददगार हो सकती है ! इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट, मेटाबॉलिज्म को बढाकर वजन कम करने का काम करता है ! यहां तक कि व्यायाम के दौरान भी ग्रीन-टी शरीर की चर्बी को कम करता है ! यूके में हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि ग्रीन-टी पीने और मध्यम तीव्रता के व्यायाम करने से फैट ऑक्सीडेशन बढ़ता है, जिससे मोटापे से बचा जा सकता है ! ग्रीन-टी से मेटाबॉलिक रेट दर बढ़ सकता है और हर समय थोड़ी-थोड़ी कैलोरी कम होती है। यहां तक कि सोते समय भी ऐसा होता है ! लेकिन ये बात ध्यान में रखे की वजन घटाने के मामले में ग्रीन-टी पीने के साथ-साथ अपनी डाइट पर ध्यान देना भी जरूरी है ! साथ ही नियमित रूप से व्यायाम व योग भी करे !

2. पाचन के लिए ग्रीन-टी – Green tea for digestion in hindi

ग्रीन-टी में एंटी-ऑक्सीडेंट होता है, जो पाचन क्रिया को मजबूत करता है ! ग्रीन-टी में ईजीसीजी (EGCG) होता है, जो कोलाइटिस के लक्षणों में सुधार करता है ! कोलाइटिस एक प्रकार की सूजन होती है, जिससे पाचन क्रिया प्रभावित होती है ! ग्रीन-टी में विटामिन-बी, सी और ई भी होता है, जो पाचन के लिए फायदेमंद हैं !

what are health benefits of green tea

3. मुंह के लिए लाभदायक – Green tea for oral health in hindi

यह बात बहुत कम लोग ही जानते हैं कि ग्रीन टी का सेवन ओरल हेल्थ के लिए बेहद लाभकारी है ! इसका सेवन करने से पेरियोडोंटल, बैक्टीरियल प्लॉक आदि को नियंत्रित करता है ! जिससे दांतों या मसूड़ों की बीमारी नहीं होती ! साथ ही इसमें मौजूद फ्लोराइड दांतों को खराब होने से बचाता है !

4. कैंसर से बचाती है ग्रीन-टी – Green tea for cancer in hindi

नेशनल कैंसर इंस्टिट्यूट के मुताबिक, पॉलीफेनोल चाय के एंटी-कैंसर गुणों के लिए जिम्मेदार हैं ! इनमें से सबसे भरोसेमंद ईजीसीजी (EGCG) है ! यह, अन्य पॉलीफेनोल के साथ मिलकर मुक्त कणों से लड़ता है और कोशिकाओं को डीएनए क्षति से बचाता है !ग्रीन-टी में मौजूद पॉलीफेनोल (polyphenols) इम्यून सिस्टम की प्रक्रिया को भी ठीक करता है !

दूसरे एक अध्ययन के अनुसार, ग्रीन-टी कुछ खास प्रकार के कैंसर (फेफड़े, त्वचा, स्तन, लिवर, पेट और आंत) से हमारी रक्षा करती है ! ग्रीन-टी के घटक कैंसर कोशिका के प्रसार को रोकते हैं !

5. मधुमेह रोगियों के लिए वरदान है ग्रीन टी – Green tea for Diabetes in hindi

ग्रीन टी को अगर डायबिटीक लोगों के लिए वरदान कहा जाए तो बिलकुल गलत नहीं होगा ! इसमें मौजूद पॉलीफेनोल्स शरीर में शर्करा के स्तर को नियंत्रित करते हैं ! जिससे डायबिटीज का खतरा भी कम हो होता है ! साथ ही इसमें पाए जाने वाले एंटी−डायबिटीक तत्व मधुमेह रोगियों को बहुत लाभ पहुंचाते हैं !

6. तनाव में ग्रीन-टी – Green tea for stress in hindi

चूहों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि ग्रीन-टी में मौजूद पॉलीफेनोल्स तत्व एंटीडिप्रेसंट का प्रभाव पैदा करते हैं ! ग्रीन-टी में मौजूद कैफीन (caffeine) भी तनाव के इलाज में अहम भूमिका निभा सकता है ! एक दिन में तीन से चार कप ग्रीन-टी का सेवन तनाव को भी कम कर ने की क्षमता रखता है !

7. दिल के लिए ग्रीन-टी-Green tea for heart in hindi

एक रिपोर्ट के अनुसार, ग्रीन-टी दिल के लिए फायदेमंद होती है ! इसका सेवन करने से दिल की बीमारियों से भी बचा जा सकता है ! ग्रीन-टी हानिकारक कोलेस्ट्रॉल, जिससे ह्रदय रोग का खतरा रहता है, उसके स्तर को कम कर सकती है ! अन्य अध्ययन से यह भी पता चला है कि ग्रीन-टी अच्छे कोलेस्ट्रॉल को नुकसान पहुंचाए बिना खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकती है !

8. लंबी उम्र के लिए ग्रीन-टी – Green tea for aging in hindi

ग्रीन-टी इम्युनिटी को बढ़ाकर कई बीमारियोंं से बचाती है ! इससे अधिक उम्र तक जीने में मदद मिल सकती है ! वहीं, इस विषय पर अभी कई उलझन हैं, क्योंकि एक अन्य अमेरिकी अध्ययन के मुताबिक, ग्रीन-टी उम्र को बढ़ा तो सकती है ! लेकिन इस मामले में कैल्शियम पूरक भी महत्वपूर्ण है, जबकि ग्रीन-टी में कैफीन होता है और कैफीन का सेवन कैल्शियम को हानि पहुंचा सकता है !

वहीं, एक अन्य अध्ययन के मुताबिक, ग्रीन-टी पीने वालों में ग्रीन-टी नहीं पीने वालों के मुकाबले कम निर्बलता दिखाई दी है ! इसके अलावा, जो लोग ग्रीन-टी पीते हैं, उनमें फंक्शनल डिसेबिलिटी कम होती है ! इस आधार पर फिलहाल स्पष्ट तौर पर यह कहना मुश्किल है कि ग्रीन-टी उम्र बढ़ाने में सहायक है या नहीं, क्योंकि इस मुद्दे पर पक्ष और विपक्ष दोनों तरह की बातें मौजूद हैं !

इन फायदों के अलावा ग्रीन-टी त्वचा को मॉइश्चराइज करने के लिए, मुंहासों की समस्या के लिए, झुर्रियों को कम करने के लिए, सनबर्न या टैन निकालने के लिए, डार्क सर्कल के लिए, बालों के लिए, बालों के लिए भी फायदेमंद है !

Disadvantage
Disadvantage of green tea

ग्रीन टी के नुकशान – Disadvantage of Green Tea

1. कैफीन

कॉफी में कैफीन की उपस्थि‍ति के बारे में तो आप जानते हैं, लेकिन ग्रीन टी में भी कैफीन मौजूद होता है। हालांकि ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा कॉफी की अपेक्षा बहुत कम होती है, लेकिन दिनभर में ग्रीन टी का अत्यधि‍क सेवन इससे होने वाली खतरनाक बीमारियां पैदा कर सकता है। इससे आप पेट की समस्या, अनिद्रा, उल्टी, दस्त एवं अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के शि‍कार हो सकते हैं।

2. गर्भावस्था में – Green tea when pregnant

गर्भवस्था में या फिर शि‍शु के जन्म के बाद भी ग्रीन टी का अत्यधि‍क सेवन आपको स्वास्थ्य लाभ की बजाए हानि पंहुचा सकता है ! इसके ज्यादा सेवन से गर्भपात की संभावनाएं बढ़ सकती हैं ! दिन में दो कप से ज्यादा ग्रीन टी पीना गर्भवती महिलाओं के लिए कई तरह से खतरनाक हो सकता है !

3 आयरन की कमी

आपको यकीन न हो, लेकिन ग्रीन टी का अत्यधि‍क सेवन करने से आपके शरीर में लौह तत्वयानि आयरन की कमी हो सकती है ! ग्रीन टी में मौजूद टैनिन, खाद्य पदार्थों और पोषक तत्वों से होने वाले आयरन के अवशोषण में अवरोध उत्पन्न करता है !

4. दवाएं खा रहे हैं तो भी ग्रीन टी संभल कर पीयें

अगर आप एंटीबायोटिक्स ले रहे हैं तो ग्रीन का सेवन करने से बचना चाहिए ! इसके अलावा गर्भनिरोधक गोलियों, डिसुलफिरम, फ्लुवोक सालमाइन जैसी दवाओं के सेवन के दौरान भी ग्रीन टी पीना नुकसानदायक हो सकता है ! बहुत सारी ऐसी दवाएं हैं जिनमें ग्रीन टी का सेवन करने से शरीर में साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं !

5. टेस्टोस्टेरॉन की कमी

ब्राजील में किए गए एक शोध के अनुसार अधि‍क मात्रा में ग्रीन टी का सेवन शरीर में टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को कम करता है ! इस शोध में यह बात भी सामने आई, कि ग्रीन टी का सेवन कम करने से या इसकी मात्रा में क मी आने से टेस्टोस्टेरॉन का स्तर सामान्य होने में मदद मिलती है !

Types of green tea
Types of Green Tea in Hindi

ग्रीन-टी के प्रकार – Types of Green Tea in Hindi

ग्रीन-टी का सेवन लगभग हर जगह के लोग करते हैं ! इसलिए बाजार में कई तरह के ग्रीन-टी मिलती हैं ! नीचे ग्रीन-टी के कुछ प्रकार बता रहे हैं ! (Green Tea Benifit in Hindi)

  1. कुकीचा ग्रीन-टी
  2. ड्रैगन वेल ग्रीन-टी
  3. गेन माचा ग्रीन-टी
  4. मोरक्को मिंट ग्रीन-टी
  5. ग्योकुरो ग्रीन-टी
  6. जैस्मीन ग्रीन-टी
  7. सेन्चा ग्रीन-टी
  8. हौजीचा ग्रीन-टी
  9. बिलौचन ग्रीन-टी
  10. माचा ग्रीन-टी
How to Prepare
How to Prepare Green Tea in Hindi

ग्रीन-टी बनाने की विधि – How to Prepare Green Tea in Hindi

1. टी बैग वाली ग्रीन-टी रेसिपी

सामग्री:

  • एक ग्रीन-टी बैग
  • एक कप गर्म पानी

बनाने की विधि:

  • एक कप गर्म पानी में एक ग्रीन-टी के बैग को थोड़ी देर भिगोएं !
  • इस दौरान आप कप को किसी चीज से ढक दें !
  • फिर थोड़ी देर बाद आप इसे निकाल लें!
  • स्वाद के लिए शहद मिलाना हो, तो मिला लें और इसका सेवन करें !

2. पत्ते वाली ग्रीन-टी रेसिपी

सामग्री:

  • एक चम्मच ग्रीन-टी के पत्ते
  • चाय की छन्नी
  • एक कप पानी

बनाने की विधि:

  • आप एक कप पर चाय की छन्नी रखें !
  • अब इस छन्नी में ग्रीन-टी के पत्ते डालें और उस पर गर्म पानी डालें !
  • फिर ग्रीन-टी के पत्तों को चम्मच की मदद से थोड़ा दबा दें !
  • ध्यान रहे कि पत्तों को ज्यादा न दबाएं, नहीं तो आपकी चाय कड़वी हो सकती है !
  • आप ग्रीन-टी में थोड़ा शहद भी मिला सकते हैं !

3. पाउडर वाली ग्रीन-टी रेसिपी

सामग्री:

  • आधा या एक चम्मच ग्रीन-टी पाउडर
  • एक कप पानी
  • एक चम्मच शहद

बनाने की विधि:

  • एक बर्तन में पानी उबाल लें और कुछ सेकंड के लिए ठंडा होने के लिए छोड़ दें !
  • अब इसमें आधा या एक चम्मच ग्रीन-टी पाउडर डालें !
  • थोड़ी देर इसे पानी में घुलने के लिए छोड़ दें !
  • जब पानी का रंग हल्का भूरा हो जाए, तो इसे चाय की छन्नी से छान लें !
  • आप स्वाद के लिए इसमें शहद मिला लें !
When to Drink Green Tea in Hindi

ग्रीन-टी पीने का सही समय – When to Drink Green Tea in Hindi

  1. देर रात को भी ग्रीन-टी पीने से बचना, क्योंकि इससे अनिद्रा की समस्या हो सकती है !
  2. बेहतर यही होगा कि ग्रीन-टी को कुछ भी खाने के तुरंत बाद न पिया जाए !
  3. ग्रीन-टी को खाली पेट पीने से बचाना चाहिए !
  4. ग्रीन-टी को नाश्ते या दोपहर के खाने के बाद पिया जा सकता है !
  5. इस में दूध या चीनी न मिलाएं !

उम्मीद है आपको ये Green tea benifit in हिंदी लेख पसंद आया होगा ! पसंद आया हो तो अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले ! धन्यवाद् !

Disclaimer: इस जानकारी की वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास हमारी और से किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी हेल्थीफाय4यु डॉट कॉम की नहीं है ! हमारा आपसे विनम्र निवेदन है, कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें! हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है !

अन्य लेख पढ़े :-

सेब खाने के चम्तकारी लाभ

Health Benefits of Kiwi Fruits

ठंडी में त्वचा की देखभाल

महाभारत की रोचक किस्से जो शायद आप नहीं जानते

 क्रिकेट के बारे में रोचक तथ्य

4 thoughts on “Green Tea Benifit in Hindi | ग्रीन टी के फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »